TSSE (Teaching Staff Selection Exam) Success Story by Sudhir patidar


TSSE (Teaching Staff Selection Exam) Success Story

सबसे पहले तो मैं अपने माता पिता को धन्यवाद देना चाहूंगा| जिन्होंने मेरा साथ दिया हर कदम पर वह मेरे साथ   है और रहेंगे हमेशा|

मेरा नाम सुधीर पाटीदार है| मैं एक मिडिल क्लास फैमिली से हूं मेरे पिता  आस-पास के गांव में जाकर हॉट करते हैं| दोस्तों मेरे पिता का सपना था कि मैं बड़ा होकर कुछ अच्छी पोस्ट पर जाऊं इसलिए उन्होंने मुझे कभी उनके काम को सीखने नहीं दिया| दोस्तों जैसे ही मैंने 12वीं पास की उसके बाद तेरे गांव में आगे पढ़ने के लिए कोई कॉलेज नहीं था| और बाहर जाने के लिए मेरे पास कोई पैसा भी नहीं था| 12वीं के बाद मेरे पिता ने मुझे हौसला दिया और कहा कि तुम बाहर जाकर अपनी पढ़ाई पूरी करो उनके इस हौसले से मुझे बहुत  जोश आया तो दोस्तों इस तरह मैं अपनी आगे की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली आ गया मेरे पापा एक मध्यम वर्गीय परिवार से थे तो वह मेरी पढ़ाई का खर्चा नहीं चल सकते थे इस वजह से मैंने दिल्ली में कोई भी छोटी मोटी जॉब करने का सोचा दोस्तों कुछ समय बाद मुझे ATM पर सोने की जॉब मिल गई| दिन में दोस्तों मैं पढ़ाई करता और रात में ATM की रखवाली के बहाने वास हो जाता| दोस्तों मैं जब दिल्ली गए थे, मुझे शुरू शुरू में वहां के लोगों से बातचीत करने में काफी परेशानी हूं और मैं लोगों को समझ भी नहीं पा रहा था कि मैं एक गांव का लड़का था| मेरे साथ देने के लिए कोई नहीं था| सिर्फ मेरे पिता ही मुझे फोन पर मुझ में आत्मविश्वास भर दिया करते थे बस फिर क्या था मैं निकल पड़ा अपने सपनों की तलाश में| मैंने एक कोचिंग इंस्टिट्यूट ज्वाइन किया और पढ़ाई करने लगा और ग्रेजुएशन के लिए मैंने BA को चुना| इस तरह दोस्तों मुझे तैयारी करते-करते 3 साल बीत चुके थे मेरी ग्रेजुएशन खत्म होने वाली थी और मैंने कई सारे एग्जाम दिए परंतु हर बार मैं उन एग्जाम में फेल हो जाता था| मैंने जो एग्जाम दिए वह इस तरह है|

Patwari

MP,SI

SSC

SSC.CGL

stenographer

constable

JET- Junior officer

SBI PO

दोस्तों अंत में मैंने TSSE  की परीक्षा दी और मैं अच्छे अंको से पास हो गया| इस तरह इस परीक्षा में मैं पास हो गया और मेरी नौकरी लग गई| मेरी नौकरी लगने के बाद मैंने ATM से नौकरी छोड़ दी और मैंने इस नौकरी को ज्वाइन कर लिया| जिस दिन मेरे माता-पिता को मेरी नौकरी का पता चला दोस्तों वह बहुत खुश हुए इस तरह मेरे संघर्ष की जीत हुई मेरे संघर्ष में मेरे पापा और मम्मी का बहुत बड़ा योगदान है आज उनकी ही बदौलत मैं इस मुकाम तक पहुंचा हूं मैं दिल से उनको धन्यवाद देता हूं|

Thank you so much everyone

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *